a true story of vrandavan | वृंदावन के ग्वाले की सच्ची घटना


 

वृंदावन में एक संत जी रहते थे । श्री कृष्ण के बहुत बड़े भक्त थे । उनका एक छोटा सा 8 साल का शिष्य था ।  वह एक अनाथ बालक था । इसीलिए गुरु जी ने बचपन से ही उसे संभाला , उसे अपनी शरण दी और उसका पालन पोषण किया । उस बालक के अंदर कृष्ण भगवान से मिलने की बहुत ही ललक थी । वह गुरु जी से कान्हा जी की कथाएं सुनता था और कथाओं के माध्यम से उसे कृष्ण जी से इतना लगाव हो गया कि वो उनके साक्षात दर्शन करना चाह रहा था । वह बार-बार अपने गुरु से पूछता था कि गुरु जी , मुझे कृष्ण भगवान के दर्शन कब होंगे । तब गुरु ने एक बार उसे कह दिया कि तुम गाय चराने वन में जाया करो । कृष्ण भगवान भी गईया चराने वन में ही जाते थे । तो तुम्हें वहां पर कृष्ण भगवान के दर्शन हो जाएंगे । वह रोज प्रतिदिन आश्रम की गायों को चराने के लिए लेकर जाने लगा । लेकिन उसे कृष्ण भगवान के दर्शन नहीं हुए । एक दिन उस ने अपने गुरु से पूछा – गुरु जी , मैं तो गाय भी चराने जाता हूं ,लेकिन मुझे अब तक कृष्ण भगवान क्यों नहीं मिले । तब गुरु जी ने कहा कि तुम यमुना पार जाकर गैया चराया करो । वहां कृष्ण भगवान गईयां चराने अवश्य आते होंगे और तुम्हें वहीं पर उनके दर्शन होंगे । गुरु जी के कहे अनुसार वह बालक अगले दिन यमुना पार गया और वहीं पर गैया चराने लगा । लेकिन उसे फिर भी कृष्ण भगवान के दर्शन नहीं हुए । उसने अगले दिन फिर गुरु जी से पूछा कि – गुरु जी , मुझे कल भी कृष्ण भगवान के दर्शन नहीं हुए । क्या वे अब गैया चराने नहीं आते । तो गुरुजी ने कहा कि आते हैं ,लेकिन भगवान अपने भक्तों की परीक्षा लेते हैं । तुम अपना नित्य कर्म करते रहो । तुम्हें एक दिन भगवान के जरूर दर्शन होंगे । गुरु जी को कुछ दिनों के लिए आश्रम से बाहर जाना पड़ा । कुछ दिनों पश्चात जब वह बालक एक दिन गाय चरा रहा था , तो उसने देखा कि दूर से कोई गाय और बछड़े को चराता हुआ आ रहा है । जब वे उसके पास गए तो वे स्वयं साक्षात ही कृष्ण भगवान और बलराम थे और उनके साथ में उनके ग्वाल बाल सखा भी थें । बालक ने कहा कि – कान्हा , आप इतने दिनों बाद यहां गैया चराने आए हो , मैं आपकी प्रतीक्षा में कब से यहां आता हूं कि मुझे आप के दर्शन होंगे । भगवान ने कहा –  आओ बैठो , मिलकर बातें करते हैं । तब बालक बोला कि – कान्हा, मैं आपके साथ मित्रता करना चाहता हूं । क्या आप मुझे अपना ग्वाल सखा बनाएंगे ? कृष्ण भगवान ने कहा – अवश्य , तुम्हारे जैसा सखा पाकर तो मैं भी धन्य हो जाऊंगा ।  तो आज से हम मित्र हुए –  बालक ने कहा । कृष्ण भगवान के सखा कुछ दाल बाटी बनाने का सामान भी साथ में ले रहे थे । उन्होंने सब ने मिलकर वही भोजन बनाया और खाया । कृष्ण भगवान ने उस बालक से कहा कि – कल जब तुम आओगे , तुम भी दाल बाटी की सामग्री लाना और यहीं पर सब भोजन बनाकर खाएंगे । उसने कहा ठीक है । अगले दिन वह दाल बाटी की सामग्री लेकर गैया चराने गया । वहीं पर उसे फिर से कृष्ण और बलराम के दर्शन हुए । उन सब ने मिलकर दाल बाटी बनाई और वहीं पर खाई । अब तो वह प्रतिदिन दाल बाटी की सामग्री ले जाता और वहीं पर भगवान कृष्ण के साथ मिलकर खाता । गुरु जी आश्रम में आ गए थे । गुरु जी के आते ही उनके दूसरे शिष्यों ने कहा कि – गुरुदेव जब आप यहां पर नहीं थे , तो यह प्रतिदिन दाल बाटी की सामग्री वन में ले जाता था । इससे पूछो कि – ये ऐसा क्यों करता था ? तब गुरुदेव ने उस छोटे से 8 साल के बालक को अपने पास बुलाया और उससे प्यार पूछा । तब उसने बताया कि – गुरु जी , आपने सत्य कहा था , कृष्ण और बलराम वहीं पर गैयां चराने आते हैं । मुझे उनके दर्शन हुए हैं । उन्होंने ही मुझसे दाल बाटी की सामग्री वन में मंगवाई थी और हम सब वहीं पर भोजन बनाकर खाते थे। दूसरे सभी शिष्य उसकी इस बात पर हंस पड़े । परंतु गुरुदेव को उसकी बात पर विश्वास था । क्योंकि वह बालक कभी भी झूठ नहीं बोलता था । तब गुरु जी बोले कि – तुम दाल बाटी की सामग्री लेकर जाओ और कृष्ण भगवान से कहना कि – मैं भी उनके दर्शन करना  चाहता हूं । क्या वे आश्रम में आकर हमारी सेवा स्वीकार करेंगे । उसने कहा ठीक है , मैं अपने कृष्ण सखा से पूछ लूंगा । वह फिर चला गया। बालक ने कृष्ण भगवान से पूछा कि – मेरे गुरुजी भी आपके दर्शन करना चाहते हैं । क्या आप कल हमारे आश्रम में आएंगे ।  तो कृष्ण भगवान ने कहा कि – नहीं , मैं वहां नहीं आ सकता । मैं तुम्हारे गुरु को दर्शन नहीं दे सकता । क्योंकि उनमें अभी तुम्हारे जैसी निष्काम भक्ति नहीं है । यह सुनते ही वह नन्हा सा 8 साल का बालक उठकर चलने लगा । कृष्ण भगवान ने कहा – अरे ! क्या हुआ सखा , तुम कहां चल दिए ? तब वह बालक बड़ी मासूमियत से बोला कि – जब आप मेरे गुरु जी को दर्शन नहीं दोगे , तो मैं भी आपसे मित्रता नहीं करूंगा और ना ही आपसे मिलने यहां आया करूंगा । कृष्ण भगवान उस बालक के भोलेपन पर मोहित हो गए और कहा कि – ठीक है सखा , कल अपने गुरु जी को यही ले आना । मैं उनसे यही मिलूंगा । लेकिन मैं तुम्हारे आश्रम में नहीं जाऊंगा । तब वह बालक बोला ठीक है , कल मैं अपने गुरु जी को अपने साथ ले आऊंगा । उस बालक ने आश्रम में जाकर सारी बात गुरु जी को बताई ।  गुरु जी ने कहा –  ठीक है , जैसी भगवान की इच्छा । अगले दिन वह बालक अपने गुरु जी के साथ दाल बाटी की सामग्री लेकर वन में गैयाँ चराने आ गया । तब वहां एक अद्भुत करिश्मा हुआ । कृष्ण , बलराम और उनके ग्वाल सखा उस नन्हे से बालक को तो नजर आ रहे थे । परंतु उसके गुरु जी को वहां पर कोई भी नजर नहीं आया । वह बालक कृष्ण भगवान से बातें करने लगा । तब उसके गुरुजी बोले कि तुम किस से बात कर रहे हो ? यहां पर तो कोई भी नहीं है । बालक बोला कि – गुरु जी , यहां सामने कृष्ण और बलराम बैठे हैं , मैं उन्हीं से बातें कर रहा हूं और उनके साथ उनके सारे ग्वाल बाल भी हैं । तब गुरु जी ने कहा – लेकिन मुझे तो यहां किसी के भी दर्शन नहीं हो रहे हैं । तब वह बालक बोला कि – हे कान्हा , यह क्या लीला है , आप मुझे तो नजर आ रहे हो ,  लेकिन मेरे गुरुदेव को नहीं । यदि आप ऐसा करोगे तो मैं यहां से उठ कर चला जाऊंगा । तब कृष्ण भगवान बोले – नहीं , नहीं सखा ऐसा मत करना । दरअसल तुम्हारे गुरु जी की भक्ति अभी तुम्हारे जैसी निश्चल नहीं है । इसीलिए मैंने उन्हें दर्शन नहीं दिए , लेकिन सिर्फ और सिर्फ तुम्हारे कहने से मैं तुम्हारे गुरु जी को भी दर्शन देने को तैयार हूं । ऐसा कहते ही कृष्ण भगवान ने गुरु जी को अपने और बलराम जी के और अपने ग्वाल सखा के दर्शन कराएं । गुरु जी कृष्ण भगवान के चरणों में गिर पड़े और बोले कि – भगवन , आपका बड़ा उपकार है ,जो आपने मुझ पर कृपा की और मुझे दर्शन दिए । मेरा तो जन्म सफल हो गया । तब कृष्ण भगवान बोले कि – आपके शिष्य की वजह से ही आपको मेरे दर्शन हो पाए हैं । आपका ये शिष्य बड़ा ही निश्चल और आपका सच्चा सेवक है । जो आपके लिए मेरी मित्रता को त्यागने के लिए भी तैयार है । तब गुरु जी और उस नन्हे से बालक ने भोजन बनाया और कृष्ण , बलराम को भोग लगाया और फिर आपस में मिल बांट कर खाया । उसके पश्चात कृष्ण भगवान वहां से अंतर्ध्यान हो गए। 

  तो भक्तों इस कथा से हमें यही सीख मिलती है कि  भगवान तो प्रेम के भूखे होते हैं । जो उनसे निष्काम भाव से प्रेम करता है , वे उसे अवश्य दर्शन देते हैं ।

बाप के लिए क्या होती है बेटियां , हिंदी कहानिया। hindi story , रिक्शे वाले की दरियादिली। कर्म बड़ा या भाग्य

 


आशा और दीपक की शादी को 2 साल बीत चुके थे।  आशा मां बनने वाली थी । उसने एक दिन अचानक अपने पति दीपक से पूछा कि – आपको क्या लगता है बेटा होगा या बेटी । तब दीपक बोला – अगर मुझे बेटा हुआ , तो उसे मैं इंजीनियर बनाऊंगा और उसे जिंदगी के तौर तरीके सिखाऊंगा । तब आशा बोलती है – यदि बेटी हुई तो ...... । तब दीपक कहता है , तो मुझे उसे कुछ सिखाने की जरूरत नहीं पड़ेगी । क्योंकि वह उन सभी में से एक होगी जो मुझे सारी चीजें दोबारा सिखाएगी कि कैसे पहनना है ? कैसे खाना है ?  क्या कहना है , क्या नहीं कहना है । मैं हमेशा उसके लिए उसका हीरो रहूंगा । यदि मैं उसे किसी चीज के लिए मना करूंगा , तो वह मुझे समझेगी । चाहे वह कितने भी साल की हो जाए , लेकिन वह हमेशा यही चाहेगी कि मैं उसे अपनी बेबी डॉल की तरह प्यार करूं । वह मेरे लिए संसार से लड़ेगी । जो मुझे दुख देगा ,वह उसे कभी माफ नहीं करेगी । वह मेरी हर दुख तकलीफ में मेरे साथ रहेगी । तभी आशा कहती है – आपके कहने का मतलब है कि बेटी जो कर सकती है , वह बेटा नहीं कर सकता । तब दीपक कहता है कि – नहीं , नहीं क्या पता मेरा बेटा भी ऐसा करें । पर उसी सभी चीजें सीखानी पड़ेगी और बेटी इन गुणों के साथ पैदा होती है । आशा कहती है – पर वह हमारे साथ हमेशा नहीं रहेगी । तब दीपक कहता है – हां जानता हूं , पर वह जहां भी रहेगी हम उसके दिल में रहेंगे । यदि मुझे बेटा होता है तो मेरे लिए भाग्य की बात है । लेकिन यदि मुझे बेटी होती है तो वह मेरे लिए सौभाग्य की बात है । एक बेटी का पिता होना हर इंसान के लिए गर्व की बात होती है । बेटियां पापा की इज्जत और उनका मान सम्मान होती हैं । बेटियां बिना किसी शर्त के अपने मां-बाप से प्यार और उनकी देखभाल करती है । बेटियां अपने पापा का गुरूर होती है । दीपक की ऐसी सोच को सुनकर आशा मुस्कुराई और बोली कि यदि मुझे बेटी भी हुई , तो अब मुझे इसकी कोई चिंता नहीं । बल्कि मुझे बेहद खुशी होगी 



कर्म बड़ा या भाग्य 

दो दोस्त आपस में लड़ रहे थे ।  एक कर्म को बड़ा बता रहा था और दूसरा भाग्य को । तभी उनके पास से एक गुरुजी जा रहे थे । उन्होंने उन गुरु जी को रोका और उन्हें प्रणाम किया और पूछा कि हे गुरुदेव !  अब आप ही हमें बताइए कि हम में से कौन सही है । कर्म बड़ा है या भाग्य । गुरूदेव सोचने लगे कि इन्हें यह बात कैसे समझाऊं ? तब गुरूदेव बोले कि मैं इस बात का जवाब तुम्हें कल सुबह दूंगा । लेकिन इससे पहले तुम्हें आज रात एक कमरे में बंद रहना होगा ,  तुम्हें खाने पीने के लिए कुछ नही दिया जाएगा । तुम्हे भूखा ही रहना होगा । तब अगली सुबह मैं तुम्हारे इस सवाल का जवाब दूंगा । दोनों दोस्त तैयार हो गए । रात्रि हुई दोनों गुरुदेव के पास आए । तब गुरुदेव ने एक कमरे में दोनों को बंद कर दिया । जो दोस्त कर्म में विश्वास रखता था वह बोला अरे !  यार बहुत भूख लग रही है । दूसरा दोस्त बोला कि हमारे भाग्य में ही जब आज भूखा रहना है , तो हम क्या कर सकते हैं ? परंतु पहला दोस्त बोला कि नहीं , मैं कर्म पर विश्वास रखता हूं भाग्य को नहीं मानता । इस कमरे में खोजता हूं कि कहीं शायद कुछ खाने को रखा हुआ हो । तो पहला दोस्त उस कमरे में चारों तरफ को धीरे-धीरे हाथ  बढ़ाने लगा , तो उसके हाथ एक कटोरा लगा । उस कटोरे में भीगे हुए चने थे । वह दोस्त उस कटोरे को लेकर अपने दूसरे दोस्त के पास आया और बोला कि – देखा , मैंने कहा था ना कि कर्म बड़ा है । कल गुरुदेव कर्म को ही बड़ा बताएंगे । देखो , इस कटोरे में भीगे हुई चने हैं चलो खाते हैं । दूसरा दोस्त बोला कि नहीं मुझे भाग्य पर भरोसा है मैं नहीं खाऊंगा , तुम ही खाओ । तो पहला दोस्त जब चने खाने लगा तो उसके मुंह में कंकड़ आई । उसने  दूसरे दोस्त से कहा कि लो , तुम ये चने नहीं खाओगे तो इन कंकड़ को ही पकड़ो । उसने धीरे धीरे सारे कंकड़  दूसरे दोस्त को दे दिए । दूसरे दोस्त ने भी उन कंकड़ों को संभाल कर अपनी जेब में रख लिया । अगली सुबह गुरुदेव ने जब कमरा खोला । पहले दोस्त ने गुरुदेव से कहा कि रात जब आपने हमें कमरे में बंद किया था तो मुझे बहुत भूख लगी और मैंने कर्म पर विश्वास रख कर , उस अंधेरे कमरे में कुछ खोजा , तो मुझे एक कटोरा मिला । उस कटोरे में कुछ  भीगे हुए चने थे। मैंने उन चनों को खाकर अपनी भूख शांत की ।  यह बेचारा भाग्य पर विश्वास रखकर भूखा ही रहा ।  । इसलिए गुरुदेव कर्म ही सबसे बड़ा है । गुरुदेव ने दूसरे दोस्त से कहा कि दिखाओ , तुम्हे जो कंकड़ मिले थे , कहां पर हैं ? तो दूसरे दोस्त ने जैसे ही जेब में हाथ डाला और कंकड़ गुरु को दिखाएं । तो वे कंकड़ नहीं थे , वे हीरे थे । तब पहला दोस्त हैरान हो गया । तब गुरुदेव ने कहा कि –  तुम्हें कर्म से चने खाने को मिले थे । लेकिन तुम्हारे भाग्य में हीरे नहीं थे । इसलिए तुमने वे हीरे कंकड़ समझ कर दूसरे दोस्त को दे दिए । और इसके भाग्य में हीरे थे इसीलिए इसने भी इन हीरों को फेंका नहीं , बल्कि उन्हें संभाल कर अपनी जेब में रख लिया । गुरुदेव ने दूसरे दोस्त से कहा कि तुम्हें कर्म करना चाहिए था ।  कर्म के बिना भाग्य नहीं बनता । कर्म और भाग्य साथ – साथ ही चलते हैं । मुझे लगता है कि अब तुम्हें तुम्हारे सवाल का जवाब मिल गया होगा । दोनों दोस्त गुरुदेव की बात से सहमत हो कर कहने लगे कि  ना कर्म बड़ा है , ना भाग्य बड़ा है । कर्म और भाग्य दोनों ही साथ साथ चलते हैं ।

तो दोस्तों , हमे भाग्य पर विश्वास रखते हुए कर्म करना चाहिए । यदि हम कर्म ही नहीं करेंगे तो भाग्य हमारा साथ कैसे देगा ।


रिक्शे वाले की दरियादिली


साहब !  किधर जाओगे ,?  रिक्शा चालक ने स्टेशन से बाहर आते हुए एक यात्री से पूछा । चर्च रोड जाना है , चलोगे ?  हां , हां , साहब चलूंगा । बैठिए  आप । उस अधेड़ उम्र के रिक्शा चालक ने रिक्शे की सीट को अपने हाथ से थपथपा कर झाड़ा । आज रात की ट्रेन बहुत लेट थी और अब तो रात के 11:30 बज गए थे । डेविड जी अपने ऑफिस की ऑडिट टीम के साथ अभी-अभी ट्रेन से उतरे थे । ट्रेन से उतरते ही उन्हें घर पहुंचने की जल्दी होने लगी थी । दरअसल  कल क्रिसमस है और आज उनकी पत्नी रोजी उनके संग चर्च जाने का इंतजार करती हुई कहीं थक्कर ना सो जाए । ये सोचकर स्टेशन से चर्च रोड पर थोड़ी ही दूर अपना घर होने के बावजूद भी डेविड जी ने रिक्शा पकड़ कर अपने घर जाने का फैसला किया । तब रिक्शे पर बैठते ही डेविड जी की नजर रिक्शा चालक के पहनावे पर गई । उसने अपने कानों को एक मफलर से लपेटा हुआ था । दिसंबर की इस ठंड में भी मात्र शरीर पर एक कुर्ता पहने देख , डेविड जी जिसने की जैकेट और दस्ताने पहने हुए थे , उनके शरीर में भी एक सिहरन सी दौड़ गई । अरे यार ! तुम्हें ठंड नहीं लगती , कम से कम एक स्वेटर तो पहन लिया करो । खुद से कम उम्र के उस रिक्शा चालक को डेविड जी ने डांटा । लेकिन रिक्शा चालक ने अपने रिक्शे के पेंडल पर जोर लगाते हुए सफाई दी । घर से स्वेटर पहन कर ही आया था , साहब । फिर उतार क्यों दिया ? डेविड जी ने हैरानी से पूछा । लेकिन रिक्शा चालक ने स्टेशन के बाहर बैठे हुए दोनों पैरों से अपाहिज एक भिखारी की ओर इशारा किया । अब क्या बताएं , साहब ! उसे ठंड से ठिठुरते देख मुझसे रहा नहीं गया । उस रिक्शा चालक की दरियादिली देख डेविड जी दंग रह गए ।  स्टेशन पर आते जाते लोगों में से कौन इतना गोर देता है कि –  किसके तन पर कपड़ा है और कौन ठंड से कांपता हुआ जमीन पर पड़ा है । डेविड जी की नजर भी तभी उस भिखारी पर पड़ी थी । जब रिक्शा चालक ने उसकी ओर इशारा किया । वरना डेविड जी वहां कहां देखने वाले थे । एक गरीब का दूसरे गरीब के प्रति यह संवेदनशीलता देख डेविड जी कुछ सोच में पड़ गए । इधर वह रिक्शा चालक अपने रिक्शे के पैडल पर जोर लगाते हुए स्टेशन की भीड़ से डेविड जी को चर्च रोड पर ले आया था । जरा रुको , कुछ छूट गया है क्या साहब !  डेविड को अपने छोटे से ट्रॉली बैग का लॉक खोल कर देख रिक्शा चालक ने अनायास ही पूछ लिया । बिना कुछ जवाब दिए डेविड जी ने अपने ट्रॉली बैग से एक नया जैकेट निकालकर रिक्शा चालक की ओर बढ़ा दिया । इसे पहन लो । यह तो बहुत महंगा होगा साहब । नहीं , आज इतनी ठंड में तुम्हारे उस इकलौते स्वेटर के सामने मेरी इस एक्स्ट्रा जैकेट की कोई कीमत नहीं । नहीं , नहीं साहब मैं नहीं ले सकता । कल क्रिसमिस है , इसे क्रिसमस का उपहार समझकर ही ले लो । डेविड जी मुस्कुराए और उनकी यह बात सुनकर रिक्शा चालक हैरान हो गया ।  साहब !  वो लाल जैकेट पहनकर , दाढ़ी लगाए जो बूढ़ा आदमी सब से हाथ मिला कर बच्चों को क्रिसमस का उपहार देता है । उसको आप लोग क्या कहते हैं ? वह रिक्शा चालक खुश होकर डेविड जी के हाथ से जैकेट लेते हुए पूछ बैठा । उसकी बात सुनकर डेविड जी हंस पड़े  सैंटा क्लॉस , सैंटा क्लॉस कहते हैं हम उसे । तो साहब ! आज तो आप मेरे लिए सचमुच के सैंटा क्लॉस ही हो गए । डेविड जी उसकी बात सुनकर बहुत जोर से हंस पड़े ।

दोस्तों , जितना हम से हो सके हमें जरूरतमंदों की सहायता करनी चाहिए । क्योंकि जब कोई सच्चे दिल से दुआ देता है तो उसकी दुआ में बहुत असर होता है ।

लड़के लड़कियों के लिए पति -पत्नी के sale। Wife FOR Sale। Husband for sale। पत्निया बेचीं जा रही है।

Husband for Sale 

पति बेचा जा रहा है   




पति बेचा जा रहा है बाजार में एक नई दुकान खुली जहां पति बेचे जा रहे थे जैसे यह दुकान खुली महिलाओं की भीड़ बाजार की ओर दौड़ी सभी दुकान में प्रवेश करने के लिए उत्सुक थे दुकान के प्रवेश द्वार पर बोर्ड पर कुछ निर्देश और शर्ते लिखी हुई थी इस दुकान में कोई भी महिला या लड़की एक ही बार प्रवेश कर सकती है दुकान में 6 मंजिलें हैं और प्रत्येक मंदिर में पतियो  के अलग-अलग प्रकार के बारे में लिखा गया है महिला खरीदार किसी भी मंदिर से पति का चुनाव कर सकती है मगर एक बार ऊपर जाने के बाद फिर से नीचे नहीं आ सकती बाहर निकल जाने के अलावा एक खूबसूरत लड़की को दुकान में प्रवेश करने का मौका मिला था  । पहली मंजिल के दरवाजे पर लिखा था इस मंजिल के पति अच्छी नौकरी पेशा और पूजा पाठकरने वाले हैं लड़की आगे बढ़ गई दूसरी मंजिल के दरवाजे पर लिखा था इस मंजिल के पति नौकरी पेशा धर्म परायण और बच्चों से प्यार करने वाले हैं लड़की फिर आगे बढ़ गई तीसरी मंजिल पर लिखा था इस मंजिल के पति नौकरी पेशा है उपासना करने वाले हैं बच्चों से प्यार करने वाले भी हैं और खूबसूरत भी हैं इसे पढ़कर लड़की कुछ देर के लिए रुकी है लेकिन फिर सोचा चलो एक मंजिल ऊपर जाकर देखते हैं चौथी मंजिल के दरवाजे पर लिखा था इस मंजिल के पति महंती ईश्वरीय बच्चों से प्यार करने वाले सुंदर हैं और घर के कामों में मदद करने वाले भी हैं इसे पढ़कर लड़की बेहोश होने के करीब थी उसने सोचा दुनिया में ऐसे भी मर्द होते हैं वह सोचने लगी कि वह यहां से पति खरीद कर घर चली जाए लेकिन जब उसका दिल नहीं माना तब वह एक स्तर और ऊपर चली गई 

दरवाजे पर लिखा था इस मंजिल के पति मेहंदी ईश्वरीय बच्चों से प्यार करने वाले बहुत सुंदर घर के काम में मदद करने वाले और रोमांटिक भी हैं अब उस महिला का सब्र का बांध टूटने लगा वह सोचने लगी कि उसे इससे भी अच्छा पुरुष मिल सकता है भला लेकिन उसका दिल फिर भी नहीं माना वह अगली मंजिल पर चली गई यहां बोर्ड पर लिखा था आप इस मंजिल पर आने वाली 3331 भी महिला है इस मंजिल पर कोई पति नहीं है यह मंजिल बस यह सिद्ध करने के लिए बनाई गई है कि आपको बता सके कि एक महिला को संतुष्ट करना असंभव है हमारे स्टोर पर आने के लिए धन्यवाद सीढ़ियां बाहर की ओर जा ती है कृपया धैर्य रखें और आभारी रहना सीखें ।



Wife FOR Sale। Husband for sale।  पत्निया बेचीं जा रही है। 


  लड़के लड़कियों के लिए पति -पत्नी के sale।  Wife FOR Sale। Husband for sale।  पत्निया बेचीं जा रही है। 


बाजार में एक नई दुकान खुली थी जिसका चर्चा पुरे शहर में था , उसके ऊपर बहुत बड़ा बोर्ड लगा था , की अपनी मनपसंद पत्नी लो , दुकान के सामने 20 से लेकर बड़ी उम्र के लड़के और उनके माता पिता की भीड़ जमा हुयी 

जैसे तैसे करके एक लड़के को अपने माता पिता के साथ दुकान के अंदर जाने का मौका मिला , 

दुकान मे अंदर जाते ही कुछ शर्ते लिखी थी जहा लिखा था की मंजिल  पर आप एक ही बार ऊपर जा सकते है । । 


हर मंजिल पर अलग अलग तरह की पत्निया मिलेंगी 

मंजिल पर से आप वापिस नहीं आ सकते हर मंजिल से बाहर निकलने का रास्ता अलग है 

लड़के के साथ साथ उसके माता पिता का संतुष्ट होना अनिवार्य है 


लड़के ने ये सब शर्ते पड़ी और पहली मंजिल पर चढ़ना शुरू किया 


पहली मंजिल पर लिखा था , यहाँ बहुत ही सुन्दर पत्निया मिलती है लेकिन दहेज नहीं मिलेगा , बहुत सुन्दर का नाम देख कर लड़का अपने माँ बाप की और देखने लगा , लड़के का पिता बोला , सिर्फ खाली बहु का क्या करेंगे तुम्हे जो पढ़ाया लिखाया उसका क्या ? चलो आगे देखते है 

अगली मंजिल पर लिखा था यहाँ सुन्दर और नौकरी करने वाली पत्निया मिलती है ,  सुन्दर और नौकरी का नाम सुनकर लड़का और उसका बाप इतने मे लड़के की माँ बोली , हाँ अब मै ही उस महारानी को बना कर खिलाऊंगी , मुझसे नहीं होगा चलो चलो आगे बढ़ो 


तीसरी मंजिल पर पहुंचे तो सामने पढ़ा की यहाँ की पत्निया खूब दहेज के साथ आएंगी , घर का काम काज भी करेंगी लेकिन सुन्दर नहीं है , पहली दोनों शर्ते पढ़ कर माता पिता खुश , दहेज भी मिल रहा है , घर का काम काज भी करेंगी।  दोनों लड़के को समझाने लगे देखो बेटा संसार मे दो ही रंग होते है काला और गौरा , इतने मे लड़का बोला चलो आगे बढ़ो ,चौथी मंजिल पर लिखा था यह पर सुन्दर , बहुत दहेज देने वाली और घर का काम काज करने वाली पत्नी मिलती है लेकिन उनकी उम्र थोड़ी ज्यादा है माँ बाप कुछ बोलते इतने मे लड़का बोला आगे चलो 


अब 5 वी मंजिल पर पहुंचे तो पढ़ा की यहाँ मिलने वाली पत्निया , सुन्दर भी है , दहेज भी देंगी , घर का काम काज भी करेंगी लेकिन उनकी थोड़ी लम्बाई कम है , यह पढ़ते ही माँ बोल पड़ी समाज क्या कहेगा , दहेज के लिए बेटा बेच दिया 


जैसे ही वो तीनो छठी मंजिल पर पहुंचे वहां लिखा था आइये श्रीमान आप यहां तक पहुंचने वाले 3991 वे है , बाहर जाने का रास्ता सामने है कृपया घर जाकर सोचे की आपको वास्तव मै क्या चाहिए।  आपने समाज मे मिलने वाली हर लड़की को reject किया है  अगर आपके घर मे बेटी है तो आप खुद सोचिये की क्या आप किसी भी परिवार की हर ख्वाहिश पूरी कर पाएंगे।  

यह एक हास्य और शिक्षा पर्द कहानी है , अगर इस कहानी से किसी को दुःख पंहुचा हो तो हम माफ़ी चाहते है 






संघर्ष की कहानी | a story related to you










 


एक तालाब था । उस तालाब में बहुत सारे मेंढक रहते थे । उस तालाब के पास ही एक खंभा था । एक दिन तालाब के सारे मेंढकों ने सोचा कि – क्यों ना एक प्रतियोगिता रखी जाए । कि इस खंभे पर जो सबसे पहले चढ़ेगा वही हमारा विजेता होगा । और उसे इनाम दिया जाएगा । तालाब के सभी मेंढकों में यह प्रतियोगिता शुरू हो गई । आसपास के और भी मेंढक इस प्रतियोगिता को देखने आए । सभी मेंढक उस खंभे पर चढ़ने का प्रयास करने लगे । जैसे ही मेंढक उस खंभे पर चढ़ रहे थे , वे बार-बार फिसल कर नीचे गिर जाते । लेकिन दोबारा चढ़ते , फिर नीचे गिर जाते । बहुत से मेंढक ऐसे थे जो हार मानकर एक किनारे बैठ गए और कहने लगे कि नहीं , यह तो असंभव है । इस खंभे पर कोई नहीं चढ़ सकता , क्योंकि यह खंबा बहुत ही चिकना है । कुछ मेंढक अब भी प्रयास कर रहे थें,  परंतु कुछ दूरी पर ही चढ़े थे कि फिर फिसल कर नीचे आ गए । किनारे पर बैठे हुए मेंढक चिल्ला रहे थे कि – अरे यह नहीं होगा , वापस आ जाओ । ऐसा कहकर वे उनकी आशा को तोड़ रहे थे ।  तभी सारे मेंढकों ने हार मान ली । लेकिन एक छोटा सा मेंढक अभी चढ़ ही रहा था । बार-बार गिरता था , फिर चढ़ता था । फिर गिरता था , फिर चढ़ता था । उसे भी सारे मेंढक पीछे से कह रहे थे कि – अरे नहीं , तुम इस खंभे पर चढ़ ही नहीं सकते , वापिस आ जाओ । इस खंभे पर कोई नहीं चढ़ सकता । लेकिन वह छोटा सा मेंढक किसी की बात सुन ही नहीं रहा था और वह चढ़ता गया ,फिर गिरता गया । इस तरह वह अपने प्रयास से धीरे-धीरे उस खंभे के ऊंचाई पर पहुंच गया और वहां पर चढ़कर बैठ गया । ऐसा देख सारे जो मेंढक थे , सब हैरान हो गए और कहने लगे कि ये तुमने किस तरह कर दिया ? तुम किस तरह  इतनी ऊंचाई पर चढ़ गए । हमसे तो यह काम हो ही नहीं रहा था । तब उनमें से एक जो बूढा मेंढक था । वह बोला कि अरे ! इससे क्या पूछ रहे हो , यह मेंढक तो बहरा है ।

 तो दोस्तों , इस कहानी से यही सीख मिलती है कि यदि जीवन में सफलता पानी है , तो हमें दुनिया वालों की बात पर ध्यान न देकर सिर्फ अपने काम को करने का जज्बा रखना चाहिए । हो सकता है कि हम एक या दो बार उसमें असफल हो जाए , लेकिन एक ना एक दिन हमारी मेहनत जरूर सफल होगी ।


There was a pond. Many frogs lived in that pond. There was a pillar near that pond. One day all the frogs in the pond thought that why not have a competition. That the one who climbs this pole first will be our winner. And he will be rewarded. This competition started among all the frogs in the pond. Other frogs from around also came to watch this competition. All the frogs started trying to climb that pole. As the frogs were climbing that pole, they would repeatedly slip and fall down. But would climb again, then fall down again. There were many frogs who accepted defeat and sat on one side and said no, this is impossible. No one can climb this pillar, because this pillar is very smooth. Some frogs were still trying, but had climbed only a short distance and then slipped and came down. The frogs sitting on the bank were shouting that - Oh this will not happen, come back. By saying this, he was breaking their hope. Only then all the frogs accepted defeat. But a small frog was still climbing. Used to fall again and again, then used to climb. Then used to fall, then used to rise. All the frogs were also telling him from behind that – oh no, you cannot climb this pole at all, come back. No one can climb this pillar. But that little frog was not listening to anyone and he kept climbing, then kept falling. In this way, with his efforts, he slowly reached the height of that pillar and climbed there and sat down. Seeing this, all the frogs were surprised and asked how did you do this? How did you climb so high? We were not able to do this work at all. Then one of them who was an old frog. He said hey! What are you asking him, this frog is deaf.

 So friends, this story teaches us that if there is success in life, then we should have the spirit of doing our work only by not paying attention to the people of the world. We may fail in it once or twice, but one day our hard work will definitely be successful.

मां का कर्ज। एक कहानी | A true story of every home













 

बेटा  मां  से –  मां , क्या आप रोज –रोज कहती हो कि तू मेरा कर्ज नहीं उतार सकता ।  लो आज मैं तुम्हारा सारा कर्ज उतारना चाहता हूं । बताओ , उसके लिए मुझे क्या करना होगा । 

 मां – अच्छा बेटा , अब तू इतना बड़ा हो गया है कि तू मेरा कर्ज उतारना चाहता है । 

 बेटा –  हां मां , मैं आज तुम्हारा सारा कर्ज उतारना चाहता हूं । मैं फिर दोबारा ये बात सुनना नहीं चाहता कि तू मेरा कर्ज नहीं उतार सकता । 

 मां – ठीक है बेटा , तुझे उसके लिए एक रात आज मेरे पास ही सोना होगा । 

 बेटा –  बस इतनी सी बात , अगर मैं आपके पास एक रात सो जाऊं तो क्या आपका सारा कर्ज उतर जाएगा ? 

 मां – हां बेटा ,

 बेटा – ठीक है मां, आज रात मैं आपके पास ही सोऊंगा ।

      बेटा अपनी मां के पास ही सो जाता है । अभी उसे थोड़ी देर ही सोए हुए को हुई थी कि मां ने आवाज लगाई ।

मां – बेटा ,  उठ तो । मुझे बहुत प्यास लगी है ।

बेटा – मां ,वही आपके पास मेज पर पानी रखा हुआ है , आप पी लीजिए , मुझे नींद आ रही है ।

मां – बेटा , तू मेरा कर्ज उतारना चाहता है ना ? तो फिर .....  मुझे उठकर पानी पिला । 

बेटा कुछ सोचकर उठता है और एक गिलास भरकर मां को पानी का देता है । जिस तरफ बेटा सोया हुआ था मां उस पानी के गिलास को गलती से उधर गिरा देती है ।

बेटा – अरे मां ! यह क्या किया आपने ? मेरे बिस्तर को  गीला कर दिया । अब मैं कैसे सोऊंगा ? 

मां – गलती से गिर गया बेटा । बूढ़ी हो गई हूं ना..... अब हाथ कांपते हैं । तू इस पर कोई दूसरी चादर बिछा ले और सो जा ।

बेटा दूसरी चादर उस पर बिछा लेता है और वही सो जाता है । उसे फिर से नींद आई ही होती है कि मां फिर आवाज लगाती है ।

मां – बेटा , उठ तो । मुझे बहुत जोर से पेशाब आ रहा है जरा मेरे साथ चल । कहीं मैं अंधेरे में गिर ना जाऊं ?  

      बेटे को गुस्सा आता है और मन में सोचता है कि – बस आज रात की बात है , किसी तरह आज रात मां के पास सो कर इसका कर्ज उतार दूं । फिर कल से तो मैं आराम से सोऊंगा । यह सोचकर वह उठ जाता है और अपनी बूढ़ी मां को पेशाब करा कर ले आता है । और आकर दोनों मां बेटे सो जाते हैं । बेटे को फिर से अभी नींद ही आई थी कि मां  ने फिर से आवाज लगाई ।

 मां – बेटा, उठ तो । मेरे सिर में बहुत दर्द हो रहा है । मुझे कोई सिर दर्द की दवाई दे दे । 

 बेटा झल्लाकर– क्या मा ? आप मुझे बार-बार परेशान कर रही हैं । अभी थोड़ी देर पहले तो उठा था । जब आप नहीं कह सकती थी कि मुझे सिर में दर्द हो रहा है और दवाई दे दो । अभी मुझे नींद ही आई थी । एक तो आपने पहले से बिस्तर गीला कर रखा है ।

 बेटा फिर से मन में कर्ज वाली बात सोचता है और उठकर दवाई देता है और साथ में पानी का गिलास देता है ।

 मां दोबारा उस पानी के गिलास को उसके बिस्तर पर गिरा देती है ।

 बेटा गुस्से से चिल्लाते हुए  – यह क्या किया मां आपने ? फिर से मेरा बिस्तर गीला कर दिया । अब मैं यहां पर कैसे सोऊंगा ? मैंने तो गलती कर दी आपके पास सोकर ।  आप मुझे चैन से सोने ही नहीं दे रही हो । बार बार मुझे जगा कर मेरी नींद खराब कर रही हो ।

 मां – अच्छा बेटा । मैंने तुझे दो या तीन बार क्या उठाया , तुझे गुस्सा आ गया । तेरी नींद खराब हो गई और जो तेरे बचपन में मैंने कई रातें जाग जाग कर तेरे साथ बिताई हैं , उनका क्या.......?  जब तू अपने मल मूत्र से बिस्तर को गीला करता था । तो सूखे में तुझे सुलाती थी और उस मल मूत्र और गीले बिस्तर पर मैं खुद सोती थी । जब तो मेरी नींद नहीं खराब हुई । जब कभी तुझे बुखार आ जाता था तो सारी रात बैठ कर तेरी देखभाल करती थी । तेरी दवाई का ध्यान रखती थी और अब जब मुझे सिर दर्द हो रहा है , तो तेरी नींद खराब हो रही है । अगर तुझे मेरा कर्ज उतारना है तो तुझे उन सारी रातों का हिसाब देना होगा , जो 

 मैंने तेरे बचपन में तेरे साथ जागकर काटी है और अभी तो एक रात भी पूरी नहीं हुई है ।

 इन सब बातों को सुनकर बेटा अपनी मां के चरणों में गिर जाता है । और कहता है मां मुझे माफ कर दो , जो मैं आप का कर्ज उतारने चला था । मैं मूर्ख था जो यह समझ ही नहीं पाया कि कोई भी बेटा अपनी मां का कर्ज नहीं उतार सकता । 

 तो दोस्तों, बच्चे अपने मां  बाप का कर्ज कभी नहीं उतार सकते । लेकिन उनकी सेवा करके उस कर्ज को कुछ कम जरूर कर सकते हैं । मां बाप भगवान का रुप होते हैं । मां बाप की सेवा ईश्वर की सेवा मानी गई है । यदि हम अपने मां-बाप को खुश रखते हैं , तो ईश्वर हमसे अपने आप ही प्रसन्न रहते हैं ।


एक सच्ची घटना जब भगवान भक्त से बोले उठो , मुझे पुजारी ने जहर दे दिया है। kank dhara mandir ki khani












 

एक बहुत ही बड़े तपस्वी थे । वह श्री राम जी को अपना छोटा भाई और अपने आप को उनका बड़ा भाई मानते थे । वे श्रीराम जी से कहते थे कि मैं आपका बड़ा भाई हूं और अगर आपको कुछ भी काम हो तो मुझसे अवश्य कहिए । वे श्री राम मंदिर से थोड़ी दूर कुटिया बनाकर रहते थे । एक बार श्री राम मन्दिर के जो पुजारी थे , उनके बेटे को कोई बीमारी हो गई । उसके इलाज के लिए पुजारी जी एक वैद्य पर गए । उस वैद्य ने पुजारी को नीला थोथा नाम की दवाई दी । और उससे कहा की आप इसमे कुछ अन्य जड़ी बूटियां मिलाकर अपने पुत्र के शरीर पर लगा देना वो ठीक हो जाएगा । कहते है कि नीला थोथा एक विष के समान पदार्थ होता है ।  पुजारी ने नीला थोथा गलती से उस स्थान पर रख दिया , जहां पर वह भगवान के लिए मिश्री रखता था । पुजारी जी रात को भगवान को दूध का भोग लगाने वाले थे , तो उन्होने जल्दबाजी में दूध में मिश्री की बजाए नीला थोथा उठाकर घोल दिया और उन्होंने यह भी नहीं देखा कि दूध का रंग धीरे धीरे काला हो चुका है ।  उन्होने मन्दिर में श्री राम के आगे उसका भोग लगाकर  दरवाजा बंद कर दिया और जाकर सो गए । जब श्रीराम ने उस दूध को पिया , तो पीते ही उनकी प्रतिमा का सारा रंग काला पड़ गया । श्रीराम के हृदय में जलन होने लगी । तब श्री राम ने उन तपस्वी के स्वप्न में जाकर कहा कि –  उठो मेरे छोटे भाई , उठो , मुझे पुजारी ने गलती से नीला थोथा दे दिया है। मुझे ह्रदय में जलन हो रही है । मेरी प्रतिमा का सारा रंग काला हो गया है । कुछ उपाय करो ,मुझे बहुत पीड़ा हो रही है । तब संत जी जागे और अपने शिष्य को उठाया और उन्हें अपने स्वपन की सारी बात बताई । वे सब श्री राम के मन्दिर में गए । उन्होंने मंदिर के पुजारी को जगाया और सारी घटना बताई । रात में ही मंदिर के बाहर भक्तों की भीड़ जमा हो गई ।  यह बात सारे में फैल गई थी कि श्री राम को पुजारी ने गलती से जहर पिला दिया है । पुजारी और संत जी ने जाकर मंदिर का दरवाजा खोला , तो देखा कि श्री राम की सारी प्रतिमा काली हो गई है । तब संत जी ने श्रीराम से पूछा कि – आपकी यह जलन कैसे कम होगी ?   कृपया कुछ उपाय बताइए । तब श्री राम जी बोले कि – यह जो थोड़ा सा दूध बचा हुआ है । अगर इसमें तुम सवा मन दूध और मिलाकर सब भक्तजन को बांटो , तो मेरी यह जलन कम हो जाएगी । पुजारी और संत जी ने बाहर आकर सभी भक्तों को यह बातें बताई , तो सभी भक्त उस जहर को पीने के लिए तैयार हो गए । तब संत जी ने सवा मन दूध मंगा कर उसमें वो बचा हुआ दूध मिलाया और  सभी भक्तजन में बांट दिया । वहां पर कम से कम हजारों की संख्या में भक्तजन की भीड़ जमा थी । जैसे-जैसे दूध  बांटा जा रहा था , ऐसे ही प्रतिमा का रंग सफेद होता जा रहा था । बाद में जब सारा दूध बंट गया और सारे भक्तजन अपने घर चले गए । तब संत जी मंदिर में आए और देखा कि श्री राम की प्रतिमा का सारा रंग सफेद हो चुका है । लेकिन उनकी हथेली पर थोड़ी सी कालीमा बाकी है । तब उन्होंने श्री राम से पूछा कि यह आपकी हथेली जो काली रह गई है, वह कैसे ठीक होगी । तब श्री राम ने कहा कि यह नहीं जाएगी । तब संत जी ने कहा – क्यों प्रभु ? सारा दूध तो बंट गया है । फिर आपकी हथेली का रंग सफेद क्यों नहीं हुआ । तब श्री राम बोले कि जिस कढ़ाई में तुमने दूध आपस मे मिलाया था , उस कढ़ाई में थोड़ा सा दूध लगा रह गया है । जिसके कारण यह हथेली काली रह गई है । तब  संत जी बोले कि –  प्रभु , उस कढ़ाई में लगा हुआ दूध मैं पी लेता हूं । तब श्री राम बोले कि – नहीं , बड़े भाई इसे रहने दो। यह एक घटना के तौर पर याद रहेगी कि मेरे भक्तों ने मेरे लिए क्या-क्या सहन किया ।

  यह एक सत्य घटना है । यह घटना अयोध्या में श्री कनक बिहारी मंदिर जी की है । कनक बिहारी मंदिर में आज भी श्री राम , माता सीता और अपने अनुज सहित विराजमान है । और उनकी हथेली आज भी काली है । और उस काली हथेली को ढकने के लिए उस पर मेहंदी लगाई जाती है ।


He was a great ascetic. He considered Shri Ram ji as his younger brother and himself as his elder brother. He used to tell Shriram ji that I am your elder brother and if you need anything, then do tell me. He used to live in a hut a little far away from Shri Ram Mandir. Once the son of the priest of the Shri Ram temple got sick. The priest went to a doctor for his treatment. That doctor gave medicine named Neela Thotha to the priest. And told him that you mix some other herbs in it and apply it on your son's body, he will be fine. It is said that Neela Thotha is a poison-like substance. The priest mistakenly kept the blue thota at the place where he used to keep sugar candy for the Lord. The priest was about to offer milk to God at night, so in a hurry, instead of sugar candy, he mixed blue powder in the milk and he did not even notice that the color of the milk has gradually turned black. He offered bhog in front of Shri Ram in the temple, closed the door and went to sleep. When Shriram drank that milk, the whole color of his statue turned black as soon as he drank it. Shriram's heart started feeling jealous. Then Shri Ram went in the dream of that ascetic and said – wake up my younger brother, wake up, the priest has given me blue thota by mistake. I am having heartburn. The whole color of my statue has turned black. Do some remedy, I am suffering a lot. Then the saint woke up and woke up his disciple and told him all about his dream. They all went to the temple of Shri Ram. He woke up the priest of the temple and told the whole incident. A crowd of devotees gathered outside the temple in the night itself. The word had spread all over that the priest had mistakenly given poison to Shri Ram. When the priest and the saint opened the door of the temple, they saw that the entire idol of Shri Ram had turned black. Then the saint asked Shriram that - how will this jealousy of yours be reduced? Please suggest some solutions. Then Shri Ram ji said that - this little milk is left. If you add one-fourth mind milk and distribute it to all the devotees, then this jealousy of mine will reduce. The priest and the saint came out and told these things to all the devotees, then all the devotees got ready to drink that poison. Then the saint asked for a quarter of a cup of milk, mixed the remaining milk in it and distributed it among all the devotees. There was a crowd of at least thousands of devotees gathered there. As the milk was being distributed, the color of the idol was becoming white. Later, when all the milk was distributed and all the devotees went to their homes. Then the saint came to the temple and saw that the entire color of the idol of Shri Ram had turned white. But there is a little Kalima left on his palm. Then he asked Shri Ram that how will this blackened palm of yours be cured. Then Shri Ram said that it will not go. Then the saint said - Why Lord? All the milk has been distributed. Then why didn't the color of your palm turn white. Then Shri Ram said that the pan in which you had mixed the milk, a little milk has remained in that pan. Due to which this palm has remained black. Then the saint said - Lord, I drink the milk in that pan. Then Shri Ram said - No, elder brother leave it. It will be remembered as an incident that what my devotees tolerated for me.

  This is a true incident. This incident is of Shri Kanak Bihari Temple in Ayodhya. Even today Shri Ram, Mata Sita and his younger brother are sitting in the Kanak Bihari temple. And his palm is still black. And to cover that black palm, henna is applied on it.

कैसे बनी जामवंती रीछ से लड़की | श्री कृष्ण की पत्नी जामवंती की कहानी



 












एक बार श्री कृष्ण भगवान और जामवंत जी के बीच भयानक युद्ध हुआ । युद्ध में जामवंत जी परास्त हो गए । तब जामवंत जी बोले कि – आप कौन हैं ? मुझे तो इस धरती पर केवल प्रभु श्रीराम ही परास्त कर सकते थे । और आप तो श्री राम नही है। फिर आप कौन हैं ? तब श्री कृष्ण ने अपने श्री राम रूप के दर्शन जामवंत जी को कराए । और कहा कि – जामवंत , मैंने ही अब श्री कृष्ण रूप में अवतार लिया है । तब जामवंत जी बहुत ही खुश हुए और उन्होंने प्रभु को स्यामंतक मणि लौटा दी । तब जामवंत जी बोले कि – प्रभु , मेरी आपसे एक विनती है । त्रेता युग में मैंने अपनी पुत्री के विवाह के लिए आपको कहा था । परंतु तब आपने कहा कि –  मैं एक पत्नी व्रत धारण कर चुका हूं । इसलिए मैं इस जन्म में एक से अधिक विवाह नहीं करूंगा । तब आपने मुझे कहा था कि – जब मैं श्री कृष्ण रुप में आऊंगा । तब तुम्हारी पुत्री से विवाह करूंगा । इसलिए हे कृपा निधि,  आप मेरी जामवंती पुत्री से विवाह कीजिए । तब श्री कृष्ण भगवान ने अपने वचन अनुसार जामवंत की पुत्री जामवंती से विवाह किया । जामवंती बिल्कुल जामवंत के जैसी थी क्योंकि वह एक रीछ जाति से संबंध रखती थी । उसका रूप रंग आकार सब एक रीछनी की भांति ही था । परंतु कृष्ण भगवान ने अपने वचन के अनुसार उस से विवाह किया और उसे द्वारिका ले आए । श्री कृष्ण भगवान ने रास्ते में जामवंती से कहा कि – जब तक मैं ना कहूं , तब तक तुम ना तो अपना घूघंट हटाओगी और ना ही कुछ बोलोंगी । द्वारिका पहुंचकर रुकमणी जी ने कृष्ण भगवान की आरती उतारी । और पूछा कि – प्रभु , ये आपके साथ कौन है ? इसने इतना लंबा घुंघट क्यों ओढ़ रखा है ? और यह सिर से पांव तक इस तरह कपड़ों से क्यों ढकी हुई है कि इसके पैर का एक नाखून भी दिखाई नहीं दे रहा है । तब श्री कृष्ण ने कहा कि ये जामवंती है और मैंने इससे विवाह किया है । यह बहुत ही सुंदर है और अपना रूप किसी को दिखाना नहीं चाहती । तब रुकमणी जी ने उसका घूंघट उठाने का प्रयास किया क्योंकि वे उसका चेहरा देखना चाहती थी । किंतु जामवंती ने अपने घूंघट को कसकर पकड़ रखा था ।  रुकमणी जी उसके घूंघट को उठाने का प्रयास कर रही थी क्योंकि वे उसका मुख देखना चाहती थी । परंतु जामवंती ने अपना घुंघट नहीं उठाने दिया । ऐसा होते देख रुकमणी जी को क्रोध आ गया और उन्होंने जामवंती को श्राप दिया कि – " तुम्हे अपने रुप रंग पर बहुत ही अभिमान है, तुम अपने आप को हमसे ज्यादा खुबसूरत समझती हो । इसलिए हमे अपना रुप नही दिखाना चाहती। जाओ , मैं तुम्हे श्राप देती हूं कि तुम रुप रंग में मेरे जैसी हो जाओ। "  रुकमणी के ऐसा कहते ही जामवंती का रीछनी रूप एक सुंदर सी नारी में बदल गया । तब श्री कृष्ण ने जामवंती का घूंघट हटवाया । जामवंती ने रुकमणी जी को हाथ जोड़कर प्रणाम किया । और बोली कि – दीदी , यदि मेरे व्यवहार से आपको कोई कष्ट हुआ हो तो मुझे अपनी छोटी बहन समझकर क्षमा करें । जामवंती के ऐसा कहते ही रुक्मणी जी का क्रोध शांत हो गया । उसके बाद जामवंती का द्वारिका में भव्य स्वागत हुआ ।









भगवान बोले ये मेरे वो भक्त है जिन्हे में भजता हूँ | God said, this is my devotee whom I worship









 


एक बार नारद ऋषि श्री राम जी से मिलने आए । उन्होंने द्वार पर हनुमान जी को देखा ।  हनुमान जी ने उन्हें प्रणाम किया । तब नारद जी बोले कि – हनुमान !  मैं प्रभु श्रीराम से मिलने आया हूं । प्रभु इस समय क्या कर रहे हैं । हनुमान जी बोले – भगवान श्री राम कुछ बही खाते का काम कर रहे है । तब नारद जी ने अंदर जाकर देखा कि भगवान श्री राम बही खाते में कुछ लिख रहे हैं । तब नारद जी बोले – प्रभू , आप इस काम के लिए किसी मुनीम को क्यों नहीं रख लेते ? तब श्री राम ने कहा कि – मैं अपना काम स्वयं करता हूं, मैं अपना काम किसी और को नहीं सौंप सकता । तब नारद जी बोले कि–  भगवन , इस बही खाते में आप किस का हिसाब किताब कर रहे हो । तब श्री राम बोले कि – इस  बही खाते में मेरे उन भक्तों के नाम है , जो मुझे दिन-रात भजते हैं । मैं उन भक्तों की प्रतिदिन हाजिरी लगाता हूं । तब नारद जी बोले कि – अच्छा प्रभु , बताइए मेरा नाम इस बही खाते में कहां पर है ?  तब नारद जी ने बही खाते को देखा तो उनका नाम सबसे ऊपर लिखा हुआ था । यह देखकर नारद जी को बहुत ही खुशी हुई और उन्हें अपने आप पर गर्व महसूस होने लगा । पर नारद जी ने देखा कि हनुमान जी का नाम तो उस बही खाते में कहीं पर भी नहीं था ।  उन्हें यह देखकर बहुत ही आश्चर्य हुआ । उन्होंने सोचा कि हनुमान जी तो राम जी के खास भक्त हैं । फिर प्रभु श्री राम उनका नाम लिखना कैसे भूल गए । यह बात उन्होंने आकर हनुमान जी को बताई ।  तब हनुमान जी बोले – नारद जी , शायद आपने बही खाते को ठीक से नहीं देखा होगा । मेरा नाम उस बही खाते में ही लिखा होगा । तब नारद जी बोले कि – नहीं हनुमान , तुम्हारा नाम उस बही खाते में कहीं पर भी नहीं था । तब हनुमान जी बोले –  अच्छा लगता है , प्रभु ने मुझे इस लायक ही नहीं समझा । कोई बात नहीं । फिर हनुमान जी बोले – मुझे लगता है कि प्रभु एक और बही खाता लिखते  हैं । शायद उसमें मेरा नाम होगा ।  तब नारदजी अंदर गए और श्रीराम से दोबारा पूछा कि भगवान सुना है कि आपके पास दूसरा बही खाता भी रखते हैं । जरा उसे दिखाना , उसमें क्या है ? तो भगवान ने कहा कि उसे देखकर तुम क्या करोगे । तब नारद जी के ज्यादा हठ करने पर प्रभु ने दूसरा बही खाता दिखाया , तो उसमें हनुमान जी का नाम सबसे ऊपर था।  तब नारद जी ने श्री राम जी से पूछा कि – भगवन ,  इसमें आप क्या लिखते हो ?  तब राम जी बोले कि – इसमें उन भक्तों के नाम है , जिन्हें मैं भजता हूं । जो भक्त मुझे जिह्वा से भजते हैं , वह मेरे भक्त हैं और जो भक्त मुझे ह्रदय से सिमरन करते हैं । उनका मैं स्वयं भक्त बन जाता हूं ।


God said, this is my devotee whom I worship


Once Narad Rishi came to meet Shri Ram. He saw Hanuman ji at the door. Hanuman ji bowed down to him. Then Narad ji said - Hanuman! I have come to meet Lord Shri Ram. What is the Lord doing at this time? Hanuman ji said - Lord Shri Ram is doing some book keeping work. Then Narad ji went inside and saw that Lord Shri Ram was writing something in the ledger. Then Narad ji said - Lord, why don't you hire an accountant for this work? Then Shri Ram said – I do my work myself, I cannot hand over my work to anyone else. Then Narad ji said that - God, whose account are you keeping in this ledger account. Then Shri Ram said that - In this account the names of those devotees of mine, who worship me day and night, are there. I mark the attendance of those devotees daily. Then Narad ji said - Good Lord, tell me where is my name in this account? Then when Narad ji saw the account book, his name was written at the top. Narad ji was very happy to see this and he started feeling proud of himself. But Narad ji saw that Hanuman ji's name was nowhere in that account. He was very surprised to see this. He thought that Hanuman ji is a special devotee of Ram ji. Then how did Lord Shri Ram forget to write his name. He came and told this thing to Hanuman ji. Then Hanuman ji said - Narad ji, perhaps you must not have seen the account book properly. My name must have been written in that account only. Then Narad ji said - No Hanuman, your name was not there anywhere in that account. Then Hanuman ji said - I feel good, God did not consider me worthy of this. No problem . Then Hanuman ji said - I think that God writes another account. Maybe my name will be there. Then Naradji went inside and again asked Shriram that God has heard that you keep another ledger as well. Just show it, what's in it? So God said what will you do after seeing him. Then on Narad ji's stubbornness, the Lord showed another ledger account, in which Hanuman ji's name was at the top. Then Narad ji asked Shri Ram ji - God, what do you write in this? Then Ram ji said that - it contains the names of those devotees whom I worship. The devotees who worship me with their tongue are my devotees and the devotees who worship me with their heart. I myself become his devotee.