रात में पोस्टमार्टम क्यों नहीं किया जाता ? Why is the post-mortem not done at night?

 क्योंकि यह एक सरकारी परंपरा है जिसे डॉक्टर और हॉस्पिटल प्रशासन तोड़ना नहीं चाहते। कोई डॉक्टर रात में आकर पोस्टमॉर्टम नहीं करना चाहता। उनके पास बहुत से कारण है इसे रात में ना करने के।

  1. हॉस्पिटल से अगर कहा जाय कि रात में पोस्टमॉर्टम किया जाय तो वो स्टाफ की कमी का रोना रोएंगे जो कि सच है। अस्पतालों में नाइट स्टाफ ऐसे ही कम होते हैं, केवल पोस्टमॉर्टम के लिए एक व्यक्ति को स्टैंडबाय पर रखना अनावश्यक है। यहां जीवन और मृत्यु का प्रश्न नहीं होता। अधिकतर शव परीक्षण रात तक तो टाला जा सकता है। दिन में स्टाफ अधिक होते हैं इसलिए आसानी होती है।
  2. अधिकतर पोस्टमॉर्टम रूम की हालत खस्ता होती है। ज्यादातर शव घरों रात में पर्याप्त लाइटिंग की व्यवस्था नहीं होती। बिना पर्याप्त रोशनी के पोस्टमॉर्टम करना संभव नहीं है। दिन में प्राकृतिक रोशनी रहती है इस समय यह करना ज्यादा सुविधा जनक है। एक मिथक इंटरनेट पर बहुत समय से चल रहा है कि कृत्रिम रोशनी में घाव बैंगनी रंग का दिखता है जिस वजह से पोस्टमॉर्टम रात में नहीं किया जाता। यह अवधारणा गलत है। अगर रात में घाव बैंगनी दिखाई देते तो रात में ऑपेरशन थिएटर में ऑपेरशन ना होते। पर रात में ऑपेरशन होते हैं क्योंकि ऑपेरशन थिएटर में रोशनी की पूरी व्यवस्था होती है। सूर्य के प्रकाश और कृत्रिम वाइट लाइट में कोई बहुत ज्यादा अंतर नही होता है। अगर कृत्रिम रोशनी की तीव्रता सही हो तो रात में आराम से पोस्टमॉर्टम किया जा सकता है।
  3. यह सच भी नही है कि रात में पोस्टमार्टम नही होते। केरल के कई सरकारी अस्पताल में रात में पोस्टमार्टम होता है। यह 2015 से शुरू हुआ।

नागपुर कर सरकारी अस्पताल में भी 2014 से ऐसा आर्डर आया है कि रात में भी पोस्टमार्टम किये जायें। बल्कि ऐसे कई अस्पताल हैं जो रात में पोस्टमार्टम करते हैं।

पोस्टमॉर्टम रात में भी होते हैं और पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था हो तो किसी भी समय हो सकते हैं। गाइडलाइन भले ये कहती हो कि पोस्टमार्टम दिन में करना चाहिए पर इसके पीछे एक कारण नौकरशाही सकता है।

पहले रौशनी की व्यवस्था ठीक नही होती थी। इसलिए पोस्टमार्टम दिन के उजाले में करना बेहतर माना जाता था। अब बिजली और रौशनी की ऐसी समस्याएं तो नही है। पश्चिमी उन्नत देशो में पोस्टमार्टम किसी भी समय किया जा सकता है। भारत मे मुर्दाघर की अवस्था बहुत बुरी होती है। यहाँ तो डॉक्टर्स मुर्दे को शरीर को हाथ भी नही लगाते हैं उसके बदले झाड़ू लगाने वाला सफाई कर्मचारी ही काटने, चीर-फाड़ का काम करते हैं। मुर्दाघरों मे ना वेंटिलेशन होता है ना रेफ्रिजरेटर होता है। ऐसे भी दिन में शव परीक्षण करना ज्यादा मुनासिब है।

धन्यवाद।


Because it is a government tradition that doctors and hospital administrations do not want to break. No doctor wants to come at night to do a postmortem. They have many reasons not to do it at night.


If the hospital is asked to do a postmortem at night, they will cry out the lack of staff, which is true. Night staff in hospitals are less like this, it is unnecessary to keep a person on standby only for postmortem. There is no question of life and death here. Most autopsy can be avoided till night. There are more staff during the day, so it is easier.

Most postmortem rooms are in poor condition. Most of the dead houses do not have adequate lighting at night. Postmortem is not possible without adequate illumination. Natural light remains in the day, this time it is more convenient to do it. A myth has been circulating on the Internet for a long time that wounds appear purple in artificial light, due to which the postmortem is not done at night. This concept is incorrect. If the wounds appeared purple at night, there would be no operation in the operation theater at night. But there are operations at night because there is a complete arrangement of lights in the operation theater. There is not much difference between sunlight and artificial white light. If the intensity of artificial illumination is correct, a postmortem can be done at night.

It is also not true that there are no post mortems at night. Postmortem takes place at night in many government hospitals in Kerala. It started 2015.


Since 2014 in Nagpur tax government hospital, such an order has been made that post mortem should be done at night also. Rather there are many hospitals that do post mortem at night.



Postmortems are also held at night and if adequate lighting is in place, it can happen at any time. The guideline may say that the post-mortem should be done during the day, but there may be a bureaucratic reason behind it.


Earlier the lighting system was not good. Hence post mortem was considered better in daylight hours. Now there are no such problems of electricity and light. Post mortem can be done at any time in Western advanced countries. The morgue in India is very bad. Here, the doctors do not even touch the body with the dead body, instead of this the sweeper who sweeps does the work of cutting, ripping and tearing. There is no ventilation or refrigerator in the mortuary. In such a day it is more appropriate to perform an autopsy on a day


Thank you.


reference : quora.com


follow us :




tags : रात में पोस्टमार्टम क्यों नहीं किया जाता ?

Why is post mortem necessary?


Can a post mortem determine the time of death?


Why would an autopsy not be done?


In which cases postmortem is done?

why postmortem is not done in night in hindi


why postmortem is not done after sunset


why postmortem is not done after 6pm in hindi


why postmortem is not done after sunlight


can post mortem be done after sunset


post mortem rules in india in hindi


why post mortem not done in night quora


post-mortem timings in india




Comments