अभी तो जिंदगी की किताब खोली ही थी और ना जाने कितने इम्तेहान आ गए , hindi shayari on life hindi (shayari attitude) new hindi shayari famous hindi shayari सबसे बेस्ट शायरी hindi shayari dosti hindi shayari status hindi shayari pages




पलकों पर आकर रुक जाते है आंसू 

तन्हाई पाकर बह जाते है आंसू 

दिल तो बहुत चाहता है की गम बाट लूँ आपसे 

पर हॅसते देख आपको , सुख जाते है ये आंसू ,,





चाहत में मेरी कोई खोट तो नहीं 

फिर वो क्यों बार बार आजमाए मुझे 

दिल तो उसकी याद के बिना इक पल भी नहीं रहता 

फिर कैसे मुमकिन है वो भूल जाए मुझे ,, 






रिश्ते होते है जिंदगी बिताने के लिए 

हम मिट जाए इन्हे निभाने के लिए 

मिलने का नसीब जब होगा तब होगा 

हम आपको याद करते है आपको 

याद दिलाने के लिए ,,






जाना कहा था और कहा आए गए  

दुनिया में बन कर मेहमान आ गए 

अभी तो जिंदगी की किताब खोली ही थी 

और ना जाने कितने इम्तेहान आ गए ,,






दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताए 

हॅसते हुए ये जखम किसे दिखाए 

कहती है ये दुनिया मुझे खुसनसीब 

मगर इस नसीब की दास्ताँ हम किसे सुनाए ,,,

 

No comments:

Post a Comment