अश्वगंधा के फायदे, उपयोग और नुकसान – Ashwagandha Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

 

अश्वगंधा के  फायदे, उपयोग और नुकसान –

 Ashwagandha Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

Ashwagandha (Odia: ଅଶ୍ବଗନ୍ଧା) | Solanaceae (solanum ...

अश्वगंधा क्या है? – What is Ashwagandha

अश्वगंधा का वैज्ञानिक नाम विथानिया सोम्निफेरा (Withania somnifera) है। आम बोलचाल में इसे अश्वगंधा के साथ-साथ इंडियन जिनसेंग और इंडियन विंटर चेरी भी कहा जाता है। इसका पौधा 35-75 सेमी लंबा होता है। मुख्य रूप से इसकी खेती भारत के सूखे इलाकों में होती है, जैसे – मध्यप्रदेश, पंजाब, राजस्थान व गुजरात। इसके अलावा, चीन और नेपाल में भी इसे बहुतायत संख्या में उगाया जाता है। विश्वभर में इसकी 23 और भारत में दो प्रजातियां पाई जाती हैं

अश्वगंधा के फायदे – Benefits of Ashwagandha in Hindi


अश्वगंधा को संपूर्ण शरीर के लिए फायदेमंद माना जाता है। इसके सेवन से मस्तिष्क की कार्यप्रणाली बेहतर हो सकती हैं । नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (एनसीबीआई) की ओर से प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, इसका उपयोग इम्यूनिटी को बढ़ाने, पुरुषों में यौन व प्रजनन क्षमता को बेहतर करने और तनाव को कम करने के लिए भी किया जा सकता है । साथ ही इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस संबंध में अभी और रिसर्च की जरूरत है। इसके अलावा, अश्वगंधा में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो शरीर में फ्री रेडिकल्स को बनने से रोकने में मदद कर सकते हैं । इस कारण एजिंग व अन्य बीमारियां कम हो सकती हैं

सेहत के लिए अश्वगंधा के फायदे – Health Benefits of Ashwagandha in Hindi

1. कोलेस्ट्रॉल

2. अनिद्रा

3. तनाव

4. यौन क्षमता में वृद्धि

5. कैंसर

6. डायबिटीज

7. बेहतर रोग प्रतिरोधक क्षमता

8. थायराइड

9. आंखों की बीमारी

10. अर्थराइटिस

11. याददाश्त में सुधार

12. मजबूत मांसपेशियांं

13. संक्रमण

14. ह्रदय रोग

15. नियंत्रित वजन



Ashwagandha (Telugu: అశ్వగంధ) | Solanaceae (solanum ...

त्वचा के लिए अश्वगंधा के फायदे – Skin Benefits of Ashwagandha in Hindi

1. एंटी एजिंग

सामग्री :
  • एक चम्मच अश्वगंधा पाउडर
  • गुलाब जल (आवश्यकतानुसार)
उपयोग का तरीका :
  • अश्वगंधा पाउडर और गुलाब जल को मिक्स करके पेस्ट बना लें।
  • अब इसे साफ हाथों या फिर साफ मेकअप ब्रश से अपने चेहरे पर लगाएं।
  • पेस्ट को करीब 15 मिनट बाद धो लें।

2. घावों को भरने के लिए

सामग्री :
  • अश्वगंधा की जड़
  • थोड़ा-सा पानी (आवश्यकतानुसार)
उपयोग का तरीका :
  • पहले अश्वगंधा की जड़ को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और फिर मिक्सी में ग्राइंड करके पाउडर तैयार कर लें।
  • अब इसमें आवश्यकतानुसार पानी डालकर पेस्ट बना लें।
  • पेस्ट बनने के बाद इसे प्रभावित जगह पर लगाएं।
  • जब तक आपको आराम न मिले, इसे दिन में कम से कम एक बार लगा सकते हैं

3. त्वचा में सूजन

उपयोग का तरीका :

  • त्वचा में जहां सूजन है, आप वहां अश्वगंधा पेस्ट को लगा सकते हैं। पेस्ट बनाने का तरीका ऊपर बताया गया है।
Ashvagandha (Sanskrit: अश्वगन्धा) | Solanaceae (solanum ...

बालों के लिए अश्वगंधा के फायदे – Hair Benefits of Ashwagandha in Hindi

1. बालों के लिए

2. डैंड्रफ

3. सफेद होते बालों से राहत



अश्वगंधा किस रूप में उपलब्ध है और इसका उपयोग कैसे करें – How to Use Ashwagandha in Hindi

बाजार में आपको अश्वगंधा विभिन्न रूपों में मिल जाएगा, लेकिन सबसे ज्यादा यह पाउडर व चूर्ण के रूप में मिलता है। अश्वगंधा चूर्ण खाने का तरीका बहुत आसान है। शहद, पानी या फिर घी में मिलाकर अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग किया जा सकता है। इसके अलावा, आपको बाजार में या फिर ऑनलाइन अश्वगंधा चाय, अश्वगंधा कैप्सूल और अश्वगंधा का रस भी आसानी से मिल जाएगा। अब सवाल उठता है कि अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग कैसे करें? तो इस संबंध में आपको डॉक्टर की सलाह व परामर्श लेना जरूरी है। डॉक्टर समस्या और शारीरिक जरूरत के अनुसार अश्वगंधा को उपयोग करने की सलाह देते हैं।

अश्वगंधा चूर्ण खाने का तरीका तो हम बता चुके हैं। आगे हम आपको अश्वगंधा की खुराक के बारे में बता रहे हैं।

अश्वगंधा की खुराक – Ashwagandha Dosage in Hindi

अश्वगंधा का सेवन कैसे करें यह जानने के बाद अश्वगंधा का सेवन कितनी मात्रा में करना चाहिए, इसकी जानकारी होना भी जरूरी है। अश्वगंधा के सूखे जड़ की 3 से 6 ग्राम खुराक का सेवन किया जा सकता है, इसे सुरक्षित माना जाता है । वैसे अश्वगंधा की खुराक प्रत्येक व्यक्ति की उम्र, सेहत, समस्या व अन्य कारणों पर निर्भर करती है। इसलिए, डॉक्टर की सलाह के बिना इसे उपयोग न करें। इसके अलावा, बाजार में मिलने वाले अश्वगंधा सप्लीमेंट्स के पैकेट पर लिखे निर्देश का भी आप पालन कर सकते हैं।

अश्वगंधा का यूज कैसे करें और इसकी कितनी खुराक खाई जाए, यह तो आप जान गए हैं। अब आर्टिकल के अंतिम भाग में हम अश्वगंधा के नुकसान बता रहे हैं।

अश्वगंधा के नुकसान – Side Effects of Ashwagandha in Hindi

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे के साथ ही कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। अश्वगंधा के कारण शरीर को नुकसान इसकी अधिक मात्रा के कारण ही पहुंचता है । इसलिए, आपको इसकी संयमित मात्रा का ही सेवन करना चाहिए। अश्वगंधा के नुकसान कुछ इस प्रकार हैं:

  • अश्वगंधा की ज्यादा खुराक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल परेशानी, दस्त और उल्टी का कारण बन सकती है।
  • गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन करने के नुकसान हो सकते हैं। माना जाता है कि इसकी अधिक मात्रा बतौर गर्भनिरोधक का काम कर सकती है।
  • केंद्रीय तंत्रिक तंत्र में अवसाद पैदा हो सकता है। इसलिए, अश्वगंधा का सेवन करते समय शराब और अन्य मादक पदार्थों से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

प्रकृति ने हमें कई अनमोल उपहार दिए हैं और अश्वगंधा भी उन्हीं में से एक है। आप तमाम तरह की बीमारियों से बचने, शरीर में शक्ति बढ़ाने और वजन नियंत्रित करने के लिए इसका सेवन कर सकते हैं। साथ ही जवां और खूबसूरत दिखने में भी यह औषधि आपकी मदद कर सकती है। बेशक, यह गुणकारी औषधि है, लेकिन इसका लंबे समय तक नियमित रूप से उपयोग करना हानिकारक हो सकता है। इसलिए, विशेषज्ञ से इसकी मात्रा व कितने समय तक लेना है, इस बारे में पूछकर ही इसका सेवन शुरू करें। अगर आप इस औषधि के संबंध में कुछ और जानना चाहते हैं, तो नीचे दिए कमेंट बॉक्स में अपने सवाल पूछ सकते हैं। साथ ही अगर आप अश्वगंधा का प्रयोग पहले से कर रहे हैं, तो अपने अनुभव भी हमारे साथ साझा करें।


1 comment:

  1. Very true about the ashwagandha . I really want to to the business of these types of ayurvedic medicine. Kindly suggest for the necessary documents and licensing

    ReplyDelete