क्या है कृष्ण की 16000 रनिया का रहस्य ? , श्री कृष्ण कैसे रहते थे सभी 16000 रानियों के साथ ? , श्री कृष्ण को 16000 लड़कियों से क्यों करना पड़ा विवाह ?

 क्या है कृष्ण की 16000 रनिया का रहस्य ? , श्री कृष्ण कैसे रहते थे सभी 16000 रानियों के साथ ? , श्री कृष्ण को 16000 लड़कियों से क्यों करना पड़ा विवाह ?



जैसा की आप सभी जानते है भगवान श्री कृष्ण का जन्म उत्तर प्रदेश के मथुरा में हुआ था , हम सब जानते है की भगवान श्री कृष्ण भगवान विष्णु का अवतार थे , भवन श्री कृष्ण ने जन्म लेने से पहले ही चमत्कार करने शुरू कर दिए थे , भगवान श्री कृष्ण से जुड़े बहुत से ऐसे रहस्य है जोकि आज भी अनसुलझे है , 

कहाँ जाता है की कुछ जगह ऐसे ही जहा भगवान श्री कृष्ण आज भी हर रोज आते है , जैसे निधि वन , मथुरा का एक मंदिर जहा शाम को पान , दातुन , लड्डू , पानी का लोटा , और बिस्तर लगाया जाता है , और इसके बाद मंदिर का दरवाजा बंद कर दिया जाता है लेकिन जब सुबह मंदिर का दरवाजा खोला जाता है तो दातुन चबाई हुई मिलती है , पान खाया मिलता है , लड्डू आधे मिलते है , और बिस्तर भी ऐसे लगता है जैसे इस पर कोई सो कर गया हो , 

इस बात को पता करने के लिए कई बार बड़े बड़े news channel और कई तरह के लोगो ने जो भगवान को नहीं मानते उन्होंने अपने सामने ये चीज़े मंदिर में रखवाई ,उसके बाद अपने सामने मंदिर को चेक किया ,अपने सामने ताला लगवाया और रात भर मंदिर के सामने पहरा भी दिया ,लेकिन वो इस सत्य को नहीं झुटला पाए की यहाँ कोई आता है , कहाँ से आता है ,कैसे आता है , कब आता है और कब चला जाता है आज तक कोई नहीं बता पाया , 

ठीक इसी तरह निधि वन का रहस्य है जहां शाम होने के बाद किसी को भी इसके वन के अंदर जाने की आज्ञा नहीं है , कहाँ जाता है अगर कोई गलती से भी रत को इसके अंदर रह गया तो सुबह या तो वो पागल हो जाता है और कुछ ही समय में उसकी मृत्यु हो जाती है , या फिर सुबह वह मनुष्य मर्त मिलता है , 

मनुष्य को तो छोड़िये जानवर जैसे की बन्दर ,और पक्षी जो पूरा दिन इस वन में रहते है शाम होते ही वो सब भी इस वन को छोड़ कर चले जाते है , और भी बहुत सारी ऐसी बातें है ऐसी चमत्कार है जिनका पर कोई नहीं कर पाया , 

अब बात करते है श्री कृष्ण की 16000 रानियों के बारे में , सबसे पहले आपको बता दे बहुत से लोगो को आज तक भी ये नहीं पता की श्री कृष्ण का विवाह राधा से नहीं हुआ था , क्यों नहीं हुआ था इसके पीछे क्या कारन था इसके बारे में हम कभी दूसरी पोस्ट में बात करेंगे , 


आज बात करते है 16000 रानियों के बारे में , मुख्यता श्री कृष्ण की रानी जिनके नाम रुक्मणि ,सत्यभामा ,मित्रविंदा ,जाम्ब्वति , कलींदा ,नागराजीति , भद्रा और लक्ष्मणा को गिना जाता है , 

श्री कृष्ण की 16000 रानियों के पीछे एक राक्षस का बहुत बड़ा रोल है जिसका नाम था नरकासुर , नरकासुर एक ऐसा राक्षस था जो पुरषो के साथ साथ औरतो और लड़कियों पर भी अत्याचार करता था और किस भी राजा को जितने के बाद वहां की सभी युवा कन्याओ और स्त्रियों को बंदी बना लेता था , 

उसके अत्याचार ,व्यव्हार उन स्त्रियों और कन्याओ के साथ ऐसा होता था की मुक्त करने के बाद भी वो कन्याए लोक लाज ,और अपनी शर्म इज़्ज़त के कारन अपने देश को वापस नहीं जाना चाहती थी , क्योकि समाज में उन्हें बुरी नजरो से देखा जाता था , 


एक बार नरकासुर ने स्वर्ग पर भी आकर्मण किया तब उसकी शक्तियों से परेशान होकर देवताओ ने भगवान श्री कृष्ण से सहायता मांगी , इसके बाद श्री कृष्ण ने नरकासुर से बहुत भयंकर युद्ध किया और नरकासुर को मार दिया , 

लेकिन इस समय पर नरकासुर के यहाँ पर 16000 कन्याए बंदी बनाई गयी थी जो मुक्त होने के बाद भी अपने देश को नहीं जाना चाहती थी , भगवान ने इस समस्या को देखते हुए इन सभी 16000 कन्याओ से विवाह किया , और इन्हे अपनी रानी बनाया , 

विवाह के पश्चात भवन श्री कृष्ण ने इन सभी के साथ रानियों जैसा ही व्यव्हार किया , और इन्हे समय देने के लिए भगवान श्री कृष्ण अपने आपको कई हजारो भागो में बाट देते थे जोकि हर एक श्री कृष्ण ही होते थे , इस तरह भगवान श्री कृष्ण एक होते हुए भी अनेक थे और सभी रानियों को बराबर समय देते थे , 

इसके बाद सुबह होने पर भगवान के वो सभी अलग अलग रूप एक हो जाते थे और अपने राजा होने का फर्ज निभाते थे , 

तो दोस्तों ये थी श्री कृष्ण की 16000 रानियों का रहस्य , उम्मीद करते है की आपको जानकारी पसंद आयी होगी , अगर आपको पोस्ट पसंद आयी है तो इसे शेयर करे , और सभी बोलो राधे राधे .....

No comments:

Post a Comment