कार्तिक मास की सम्पूर्ण कथा और महत्व | Complete story and importance of Kartik month














शरद पूर्णिमा के बाद की कार्तिक मास की एकम तिथि  से कार्तिक स्नान शुरू हो जाता है । जो लोग कार्तिक स्नान करते हैं वें ब्रह्म मुहूर्त में उठकर किसी पवित्र नदी या फिर घर में ही स्नान के जल में कुछ बूंदे गंगाजल की डालकर स्नान करते है । फिर मंदिर में जा कर पूजा करते हैं और कार्तिक मास की कहानी सुनते हैं । कार्तिक मास की पौराणिक कथा इस प्रकार है

 एक बूढ़ा ससुर था । उसकी सात बहूए थी । उसने अपनी बहूओ से कहा कि कल से कार्तिक स्नान आरंभ होने वाला है । मैं कार्तिक स्नान करना चाहता हूं । क्या तुम मुझे कार्तिक स्नान करवा दोगी ? छोटी छह बहुओं ने मना कर दिया और कहा कि नहीं पिता जी , हम आपको सुबह-सुबह कार्तिक स्नान नहीं करवा पाएंगे । तब उसने अपनी सबसे बड़ी बहू से पूछा तो सबसे बड़ी बहू ने कहा जी पिता जी , ठीक है  मैं आपको कार्तिक स्नान करवा दूंगी । अगले दिन से ससुर ने कार्तिक स्नान करना शुरू किया तो बड़ी बहू सुबह  ब्रह्म मुहूर्त में उठकर अपने ससुर के स्नान के लिए कुएं से जल भरकर ले आती है। ससुर के नहाने के बाद उनकी धोती धोकर वही आंगन में सुखा देती है । जब वह धोती सुखाती थी तो उसमें से जो पानी की बूंदे टपकती वह नीचे हीरे मोती में बदल जाती । ऐसे ही थोड़े दिन बीत गए जब छोटी बहूओ ने देखा कि बड़ी बहू जो धोती धोकर सुखाती है उसकी जो बूंदे नीचे जमीन पर गिरती है वह हीरे मोती बन जाती है । तो क्यों ना हम पिताजी को कल से कहे कि हमारे यहां पर आकर स्नान करें । वें अपने ससुर से ऐसा ही कहती हैं । तब बूढ़ा ससुर बोला कि कोई बात नहीं मुझे तो कार्तिक स्नान करना है , कल से तुम्हारे यहां स्नान कर लूंगा । जैसे ही अगले दिन ससुर कार्तिक स्नान करते हैं और वे बहुएं जल भरकर लेकर आती हैं और ससुर की धोती धोकर और सुखा कर जैसे ही आंगन में डालती है तो  पानी की बूंदे टपकती है उससे हीरे मोती बनने की बजाय वहां पर कीचड़ ही कीचड़ हो जाता है । छह बहुओं ने बारी-बारी से ऐसा करके देखा लेकिन किसी के भी आंगन में हीरे मोती नहीं बनते । वें अपने ससुर से कहती है कि पिताजी हमसे यह नहीं होगा , यहां पर तो सारे में कीचड़ ही कीचड़ हो गया है । आप जाओ और बड़ी बहू के घर में ही कार्तिक स्नान करो । ससुर अगले दिन से फिर बड़ी बहू के घर जाकर स्नान करना शुरू कर देता है । जैसे ही बड़ी बहू ससुर के स्नान करने के पश्चात अपने ससुर की धोती धो कर सुखाती है , वहां फिर से पानी की बूंदों से हीरे मोती बनने शुरू हो जाते हैं । कार्तिक स्नान अब खत्म होने को आ गया था , तो ससुर ने अपनी बड़ी बहू से कहा कि मैं ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहता हूं और इसके साथ ही सारे घर वाले भी भोजन करेंगे । बड़ी बहू बोली कोई बात नहीं पिताजी , मैं सबका भोजन बना दूंगी । आप जाकर ब्राह्मणों को और बाकी के सब घर वालों को निमंत्रण दे देना । ससुर जाकर ब्राह्मणों को निमंत्रण देता है और जाकर अपनी छह बहुओं को भी भोजन के लिए निमंत्रण देता है। छह बहुओं ने कहा  कि अगर बड़ी बहू घर में रहेगी तो हम भोजन के लिए नहीं आएंगे । इसलिए जब हम आए तो उसे कह देना कि वह कहीं बाहर चली जाए ।  ससुर उनकी यह बात सुनकर परेशान हो जाता है और वापस बड़ी बहू से आकर कहता है कि छोटी बहुओं ने ऐसा कहा है तो बड़ी बहू बोलती है कोई बात नहीं पिताजी , मैं सब का खाना बनाकर रख जाऊंगी और ब्राह्मणों को भोजन करवा दूंगी और जब छोटी बहुएं आएगी , तब मैं खेत में चली जाऊंगी ।  बड़ी बहू ऐसा ही करती है । अगले दिन बड़ी बहू ब्राह्मणों को भोजन करवाकर और दो रोटी अपने पल्ले में बांधकर खेत में चली जाती है । उन रोटी को बड़ी बहू चिड़ियों को खिला देती है । और  साथ ही साथ कहती है – रामजी की चिड़िया , रामजी का खेत । रामजी की चिड़िया , रामजी का खेत । उधर छह बहुएं आकर खाना खाती हैं और जाते हुए  बचे हुए खाने में मिट्टी और कंकड़ डाल देती है ।  जब बड़ी बहू खेत से वापस घर आती है तो ससुर  कहता है कि सबने भोजन कर लिया हैं, अब तुम भी भोजन कर लो । पता नहीं छोटी बहुओं ने कुछ छोड़ा है तुम्हारे लिए या नहीं । वह बोली कोई बात नहीं पिताजी , अगर भोजन नहीं होगा , तो मैं दोबारा बना लूंगी । लेकिन जैसे ही वो रसोई में जाती है और खाने का ढक्कन उठाकर देखती है तो खीर के कटोरे में सोने ,चांदी , हीरे ,मोती भरे पाते हैं और जैसे ही वो रोटी के कटोरे का ढक्कन उठाकर देखती है वह भी हीरे ,मोती और  जेवरात से भरा होता है । यह सब वह अपने ससुर को बताती है  । तो ससुर कहता हैं कि यह सब तुम्हारी निस्वार्थ सेवा का ही फल है , जो तुमने मुझे निस्वार्थ भाव से कार्तिक स्नान कराया है । इससे कार्तिक महाराज ने खुश होकर तुम्हारा घर धन-धान्य और सौभाग्य से भर दिया है । अगले दिन जब बड़ा बेटा खेत में जा कर देखता है तो खेत में भी उसकी फसलें सोने चांदी से लहरा रही होती हैं । बड़े बेटे और  बड़ी बहु के घर में इतनी धन संपत्ति को देखकर उसके छोटे भाई और छोटी बहूए अपने आप को कोस रहे होते हैं कि हमने क्यों शुरू में ही ससुर को कार्तिक स्नान के लिए हां क्यों नहीं कहा था ।


Complete story and importance of Kartik month


Kartik Snan starts from the Ekam Tithi of Kartik month after Sharad Purnima. Those who take a Kartik bath, they wake up in the Brahma Muhurta and take a bath by adding a few drops of Ganges water to a holy river or bathing water at home. Then go to the temple and worship and listen to the story of Kartik month. The legend of Kartik month is as follows

 There was an old father-in-law. He had seven daughters-in-law. She told her daughters-in-law that Kartik bath is going to start from tomorrow. I want to take bath in Kartik. Will you give me a Kartik bath? The younger six daughters-in-law refused and said that no father, we will not be able to get you Kartik bath early in the morning. Then she asked her eldest daughter-in-law, then the eldest daughter-in-law said, Father, okay, I will get you bathed in Kartik. From the next day, when the father-in-law starts taking Kartik bath, the elder daughter-in-law wakes up early in the morning to bring water from the well for her father-in-law's bath. After the father-in-law bathes, washes his dhoti and dries it in the same courtyard. When she used to dry the dhoti, the drops of water that dripped from it would turn into diamonds and pearls below. Just like this, a few days passed when the younger daughter-in-law saw that the drops of the elder daughter-in-law who washes and dries the dhoti, which fall on the ground below, become diamonds and pearls. So why don't we ask father from tomorrow to come here and take a bath. She tells the same to her father-in-law. Then the old father-in-law said that no problem, I have to take a bath in Kartik, I will take a bath with you from tomorrow. As soon as the next day father-in-law Karthik takes bath and they bring the daughter-in-law full of water and as soon as the father-in-law's dhoti is washed and dried and put in the courtyard, drops of water drip from it, instead of turning into pearls, the mud becomes mud there. Is . Six daughters-in-law did this in turn, but in no one's courtyard, diamonds do not become pearls. She tells her father-in-law that father will not do this to us, here everything has turned into mud. You go and take a Kartik bath in the elder daughter-in-law's house. From the next day the father-in-law again goes to the elder daughter-in-law's house and starts bathing. As soon as the elder daughter-in-law washes and dries her father-in-law's dhoti after taking the father-in-law's bath, there again the drops of water start forming diamonds and pearls. When Kartik bath was about to end, the father-in-law told his elder daughter-in-law that I want to feed the Brahmins and with this all the family members would also eat. The elder daughter-in-law said no problem, father, I will cook everyone's food. You go and invite Brahmins and all other family members. The father-in-law goes and invites the brahmins and goes and invites his six daughters-in-law for a meal. The six daughters-in-law said that if the elder daughter-in-law stays in the house, we will not come for food. So when we come, tell her that she should go out somewhere. The father-in-law gets upset after hearing this and comes back to the elder daughter-in-law and says that younger daughter-in-law has said so, then the elder daughter-in-law says no problem, father, I will keep everyone's food and get the Brahmins fed and when the younger The daughters-in-law will come, then I will go to the field. The elder daughter does the same. The next day the elder daughter-in-law goes to the field after feeding the Brahmins and tying two rotis in her lap. The elder daughter-in-law feeds those roti to the birds. And at the same time it says - Ramji's bird, Ramji's field. Ramji's bird, Ramji's field. On the other hand, six daughters-in-law come and eat the food and while leaving, puts soil and pebbles in the remaining food. When the elder daughter-in-law comes back home from the farm, the father-in-law says that everyone has eaten, now you also have your meal. Don't know whether the younger daughters-in-law has left something for you or not. She said no problem, father, if there is no food, then I will make it again. But as soon as she goes to the kitchen and lifts the lid of the food, she finds the kheer bowl filled with gold, silver, diamonds, pearls and as soon as she lifts the lid of the bread bowl, she sees that too with diamonds, pearls and jewellery. is filled. She tells all this to her father-in-law. So the father-in-law says that all this is the result of your selfless service, which you have given me selfless Kartik bath. With this, Kartik Maharaj has been happy and filled your house with wealth and good fortune. The next day, when the eldest son goes to the field and sees, his crops in the field are also waving with gold and silver. Seeing so much wealth in the house of elder son and elder daughter-in-law, his younger brother and younger daughter-in-law are cursing themselves that why we did not say yes to father-in-law for Kartik bath in the beginning.

No comments:

Post a Comment